Shaligram Stone : क्या है शालिग्राम पत्थर और क्या हे उसके फायदे

0
2113
Shaligram Stone
Shaligram Stone
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Shaligram Stone : शालिग्राम को एक कीमती रत्न माना जाता है। वैष्णव उनका पूरा सम्मान करते हैं.वेदों में कहा गया है कि जिनके घर में शालिग्राम का पत्थर (Shaligram Stone) होता है, उनका घर तीर्थ जैसा बनता है. शालिग्राम (Shaligram) के दर्शन और पूजा से सुख-समृद्धि आती है। भगवान शिव ने भी स्कंदपुराण में कार्तिक महात्मा में भगवान शालिग्राम (Shaligram Bhagwan) की भी स्तुति की। आइए जानते है What is Shaligram और जानते हे Shaligram Stone Benifits.

Shaligram Stone
Shaligram Stone

नेपाल में गंडकी नदी (Gandaki River) के तल में काले, चमकदार और अंडाकार पत्थर मिले हैं। जिसे शालिग्राम कहते हैं। शालिग्राम(Shaligram) अलग प्रकार और अलग रूपों में मिलते हैं। कुछ शालिग्राम पत्थर(Shaligram Stone) में एक छेद होता है तो कुछ पत्थर अंडाकार होते हैं। पद्म, चक्र, शंख या गदा जैसे निशान बने होते हैं।

Shaligram Krishna
Shaligram Krishna

शालिग्राम पत्थर को भगवान विष्णु का रूप माना जाता है. इस पत्थर में चक्र बने हुए होते हे,जिसे भगवान विष्णु(Shaligram Krishna) का रूप माना जाता है. जिसकी पूजा शालिग्राम स्वरूप में की जाती हे। विशेष रूप से भगवान विष्णु और उनके अवतारो की पूजा के दौरान भी भगवान को तुलसी पत्ते अर्पित किए जाते हे.

Advertisement
Saligram
Saligram

दरअसल, पूजा में इस्तेमाल होने वाली तुलसी(Tulsi) ही एक ऐसी चीज है, जिसे धोकर फिर से पूजा में इस्तेमाल किया जा सकता है, क्योंकि यह खुद को शुद्ध करने वाली होती है।

Shaligram Krishna Tulsi
Shaligram Krishna Tulsi

एक कथा के अनुसार तुलसी शंखचूड़ नामक यक्ष की पतिव्रता पत्नी थी। कुछ ऐसी घटना पर वह मानने लगी कि भगवान कृष्ण ने उसे  धोका दिया और पाप में फंसाया था, इसलिए उसने कृष्ण को पत्थर(Shaligram Krishna) बनने का श्राप दिया।

Shaligram Bhagwan
Shaligram Bhagwan

तुलसी की भक्ति और सच्चाई को देखकर भगवान ने उन्हें आशीर्वाद दिया कि वह एक पूजनीय पौधा तुलसी(Tulsi) बनेंगे और वह उनके मस्तक पर अर्पित होगे. इसके अलावा तुलसी बिना भगवान को अर्पित होने वाली वस्तु अधूरी होगी.

Advertisement
Shaligram stone power
Shaligram stone power

तुलसी भगवान विष्णुकी पत्नी लक्ष्मीजी(laxmiji) का प्रतीक भी माना जाता है। धार्मिक और सुखी जीवन की कामना पाने के लिए तुसली की पूजा की जाती हे.

हर साल कार्तिक माह मे बीज के दिन महिलाएं प्रतीकात्मक रूप से तुलसी और भगवान शालिग्राम से शादी करती हैं। हिंदू धर्म के लोग इस दिन के बाद ही विवाह या विवाह जैसे शुभ कार्य करते हैं।

ब्रह्मपुराण में उल्लेख है कि भगवान शालिग्राम की पूजा की जाती है और भगवान विष्णु भी भगवान लक्ष्मी के साथ निवास करते हैं।

Advertisement
Shaligram stone power
Shaligram stone power

Shaligram Stone Benifits | शालिग्राम पत्थर के फायदे

पुराणों में लिखा है कि जो शालिग्राम शीला का जल अपने शरीर पर डालता है, उसे समस्त यज्ञ और समस्त तीर्थ का मान प्राप्त होता है। जो शालिग्राम शिला के जल का नित्य अभिषेक करता है, वह संपूर्ण दान, पुण्य और पृथ्वी की समग्र प्रदक्षिणा का अधिकारी बनता है.

Shaligram Stone Benifits
Shaligram Stone Benifits

भगवान शालिग्राम को अर्पित किया हुआ पंचामृत प्रसाद के रूप में सेवन करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है।जो घर में शालिग्राम की रोज पूजा होती है, वहां के सभी दोष और नकारात्मकता खत्म होती है।

यह भी पढ़े : Tulsi Vivah 2022 : तुलसी विवाह की पूजा विधि और पौराणिक कथा | Tulsi Vivah Katha

Advertisement
Advertisement

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here